महिलाओं के टिप्स

किस प्रकार की तकनीक और किसिंग की आपको जानकारी होनी चाहिए

Pin
Send
Share
Send
Send


Îäíè ïîöåëóè èìåþò áîëåå âîçáóæäàþùåå äåéñòâèå ïî ñðàâíåíèþ ñ äðóãèìè. Ðîìàíòè÷åñêèå ïîöåëóè âñåãäà çàñòàâëÿþò ñåðäöå áèòüñÿ áûñòðåå. Ýòî ïðîèñõîäèò ïîòîìó, ÷òî íà ñàìîì äåëå òàêîé ïîöåëóé – áîëüøå ÷åì ïðîñòîå ñîåäèíåíèå ãóá è ÿçûêîâ ïàðòíåðîâ.

×òî æå ýòî çà ýíåðãèÿ, êîòîðàÿ íàïîëíÿåò ðîìàíòè÷åñêèé ïîöåëóé? Ýòî ñîåäèíåíèå äóø, ìèñòè÷åñêîå, äóõîâíîå ñëèÿíèå, âûõîäÿùåå çà ðàìêè ôèçè÷åñêîé ðåàëüíîñòè. Äëÿ òîãî ÷òîáû âåðèòü â ñóùåñòâîâàíèå ýòîé ñèëû, âîâñå íå îáÿçàòåëüíî áûòü âåðóþùèì ÷åëîâåêîì. Ìîæíî ïðîñòî èñõîäèòü èç ôàêòà, ÷òî âîëøåáñòâî îòíîøåíèé ìåæäó ëþäüìè âîçíèêàåò èç õèìè÷åñêèõ ðåàêöèé, ïðîèñõîäÿùèõ â ñåðäöå. Íèêàêàÿ àñòðîëîãè÷åñêàÿ èëè ôèëîñîôñêàÿ ñèñòåìà íå ìîæåò àäåêâàòíî îáúÿñíèòü ýòî ÿâëåíèå. Òàê âîò, ñåêðåò ðîìàíòèêè òàêîãî ïîöåëóÿ, îò êîòîðîãî ó÷àùàåòñÿ ïóëüñ, çàêëþ÷àåòñÿ â îñîáîé ñèòóàöèè, ïîçâîëÿþùåé ëþäÿì ñîåäèíèòüñÿ íà íåêîåì äóõîâíîì óðîâíå ïîñðåäñòâîì âçãëÿäà, ðàçãîâîðà, òàíöà èëè ïðèêîñíîâåíèÿ. Áóäüòå èñêðåííè â ðàçãîâîðàõ ñî ñâîåé äåâóøêîé. Óëûáíèòåñü åé ÷åðåç âñþ êîìíàòó, ïîéìàâ íà ñåáå åå âçãëÿä.

Äåéñòâèòåëüíî ëè ïðîñòîé ïîöåëóé ðîìàíòè÷íåå, ÷åì ôðàíöóçñêèé?

Ñòîïðîöåíòíî! Ïðàêòè÷åñêè â ëþáîé ñèòóàöèè ïðîñòîé ïîöåëóé ãîðàçäî áîëåå ðîìàíòè÷åí, ÷åì ïîöåëóé ñ èñïîëüçîâàíèåì ÿçûêà. Ïî ñòàòèñòèêå 46% æåíùèí æàëóþòñÿ íà òî, ÷òî ïîöåëóè èõ ïàðòíåðîâ äàëåêî íå âñåãäà ðîìàíòè÷íû. «Êàê æå çàñòàâèòü åãî öåëîâàòüñÿ êàê â êèíî?» – çàäàþòñÿ îíè âîïðîñîì. Ïàðåíü, ÷èòàþùèé ýòè ñòðîêè, äîëæåí èñõîäèòü èç òîãî, ÷òî è åãî äåâóøêà äóìàåò òî÷íî òàê æå. Íå ñòîèò, êîíå÷íî, ñïðàøèâàòü åå, òàê ëè ýòî â äåéñòâèòåëüíîñòè, íî ÿ ñòîïðîöåíòíî ãàðàíòèðóþ, ÷òî, åñëè âû áóäåòå ðîìàíòè÷íûì, îíà ýòî îöåíèò. Åé î÷åíü ïîíðàâÿòñÿ ãëóïûå, ñ âàøåé òî÷êè çðåíèÿ, íè ê ÷åìó íå âåäóùèå è íå âîçáóæäàþùèå ïîöåëóè.

 êàêîé ñèòóàöèè âîçìîæåí ïîöåëóé â ãëàçà?

Ìàêñèìàëüíî ðîìàíòè÷åñêèé, ïîöåëóé â ãëàçà âåëèêîëåïíî ïîäõîäèò äëÿ ñèòóàöèè, êîãäà âàøà äåâóøêà î÷åíü ðàññòðîåíà ÷åì-òî èëè ïëà÷åò. Öåëóÿ åå â ãëàçà, âû êàê áû îñóøàåòå ïîöåëóåì åå ñëåçû. Ïðè ýòîì âû èçáåãíåòå, îáñóæäåíèÿ íåïðèÿòíîé äëÿ íåå òåìû è â òî æå âðåìÿ ïðîÿâèòå ñî÷óâñòâèå.

Êðîìå ýòîãî, ïîöåëóé â ãëàçà ïîäõîäèò òîãäà, êîãäà âû ïðîñòî õîòèòå ðàçíîîáðàçèÿ è íåæíîñòè.

Íå çàáûâàéòå, ÷òî ýòîò ïîöåëóé âûðàæàåò òàêóþ ðîìàíòè÷åñêóþ ëþáîâü, ÷òî íåêîòîðûì îí ìîæåò ïîêàçàòüñÿ ñëèøêîì «ñëàäêèì». Åñëè âû óâèäåëè, ÷òî âàøà ïàðòíåðøà íå îæèäàëà, ÷òî âû ïðîÿâèòå ñòîëüêî íåæíîñòè è ëàñêè, çàêîí÷èòå ïîöåëóé â ãëàçà êàêèì-íèáóäü áîëåå ãðóáûì ïîöåëóåì, âðîäå ïîöåëóÿ-ïîêóñûâàíèÿ.

Êàêèå ïîöåëóè æåíùèíû ñ÷èòàþò íàèáîëåå âîçáóæäàþùèìè?

Ïîöåëóè â øåþ æåíùèíàì íðàâÿòñÿ â 10 ðàç áîëüøå, ÷åì ìóæ÷èíàì. Ïî÷åìó – íåïîíÿòíî, íî ïîöåëóé â øåþ ñâîäèò æåíùèí ñ óìà. Åñëè âû íå öåëóåòå âàøó ïîäðóæêó â øåþ, âû ðèñêóåòå åå ïîòåðÿòü. Ñòàòèñòèêà ãîâîðèò ñàìà çà ñåáÿ: áîëåå 97% æåíùèí âîçáóæäàþòñÿ îò ïîöåëóÿ â øåþ.

Êàê ëó÷øå âñåãî ïîöåëîâàòü äåâóøêó â øåþ?

Îòâåò – â ðåïëèêå îäíîé äåâóøêè: «Êîãäà ïàðåíü îáíèìàåò ìåíÿ ñçàäè, êîãäà ÿ ÷óâñòâóþ åãî äûõàíèå íà øåå, êîãäà îí ïîêóñûâàåò èëè öåëóåò ìåíÿ, êàæåòñÿ, ÷òî ÿ ïîëó÷àþ ýëåêòðè÷åñêèé ðàçðÿä â òûñÿ÷ó âîëüò!». Èìåííî ýòî è òðåáóåòñÿ îò ïàðíÿ. Óáåðèòå âîëîñû ñ åå øåè, íåæíî ïîêóñûâàéòå èëè öåëóéòå åå â øåþ – è îíà ðàñòàåò â âàøèõ îáúÿòèÿõ!

Êàê åùå ìîæíî öåëîâàòü åå â øåþ?

Íà÷íèòå ñ ïîöåëóÿ â ãóáû, ïîòîì, ïîñëå íåñêîëüêèõ ïîöåëóåâ, ñêîëüçíèòå âíèç è íåæíî ïîöåëóéòå â øåþ. Âåðíèòåñü ê åå ãóáàì. ×åðåç íåêîòîðîå âðåìÿ îïÿòü ïîöåëóéòå åå â øåþ, ïîöåëóéòå åå ïîä ïîäáîðîäêîì, ñáîêó è ñçàäè. Ïîíàáëþäàéòå çà åå ðåàêöèåé – ýòî î÷åíü âàæíî. Åñëè ó íåå ñêó÷àþùèé âèä, ïîïðîáóéòå êàêîé-íèáóäü äðóãîé ïîöåëóé, íî îáû÷íî ïîöåëóé â øåþ îêàçûâàåò íà æåíùèíó ñèëüíîå âîçáóæäàþùåå äåéñòâèå.

Êàê æåíùèíû îòçûâàþòñÿ î ïîöåëóÿõ â øåþ?

  • ß ñòàíîâëþñü äèêîé!
  • Ýòî ñâîäèò ìåíÿ ñ óìà!
  • Êîãäà îí öåëóåò ìåíÿ â øåþ, ó ìåíÿ ïî êîæå íà÷èíàþò áåãàòü ìóðàøêè.
  • Ìíå íðàâèòñÿ ÷óâñòâîâàòü çóáû ó ñåáÿ íà øåå, ëåãêîå ïîêóñûâàíèå, ïîñàñûâàþùèå äâèæåíèÿ – ìíå íðàâèòñÿ âñå!
  • ß ñõîæó ñ óìà, êîãäà îí öåëóåò ìåíÿ â øåþ. Ýòî î÷åíü ñèëüíî ìåíÿ âîçáóæäàåò.
  • Êîãäà ìîé ïàðåíü öåëóåò ìåíÿ â øåþ, ìåíÿ íà÷èíàåò òðÿñòè îò óäîâîëüñòâèÿ. Òî æå ñàìîå ïðîèñõîäèò, êîãäà îí öåëóåò ìåíÿ â óõî, íî âñå ðàâíî îò ïîöåëóÿ â øåþ îùóùåíèÿ îñòðåå.

Íðàâÿòñÿ ëè äåâóøêàì ïîöåëóè â óõî?

Î äà! Åñëè ïàðåíü ïðåíåáðåãàåò óøàìè ñâîåé äåâóøêè, îí óïóñêàåò âåëèêîëåïíûé øàíñ âîçáóäèòü åå íàèïðîñòåéøèì ïîöåëóåì. Äåëî â òîì, ÷òî äåâóøêè ëþáÿò ïîöåëóè â óõî â 2 ðàçà áîëüøå, ÷åì ïàðíè. «Êîãäà ÿ ïîïðîñèëà ìîåãî ïàðíÿ ïîöåëîâàòü ìåíÿ â óõî, – ãîâîðèò îäíà äåâóøêà, – îí ïîñìîòðåë íà ìåíÿ òàê, áóäòî ÿ ñóìàñøåäøàÿ. ß ñêàçàëà åìó, ÷òî ýòî äîñòàâëÿåò ìíå áîëüøîå óäîâîëüñòâèå, íî ðàç åìó ñàìîìó ýòî íå íðàâèëîñü, îí ðåøèë, ÷òî è ìíå ýòî íðàâèòüñÿ íå ìîæåò. Õîòÿ íà ñàìîì äåëå ìíå ýòî î÷åíü ïðèÿòíî. Äîëæíà ëè ÿ ñêàçàòü åìó, ÷òî ìåíÿ ýòî î÷åíü ñèëüíî âîçáóæäàåò (à ýòî äåéñòâèòåëüíî òàê)?». Íó, ïàðíè, ïîíÿëè? Æåíùèíû íå òîëüêî áîëüøå, ÷åì ìóæ÷èíû, ëþáÿò ïîöåëóè â óõî, íî è ðåàãèðóþò íà íèõ ãîðàçäî áûñòðåå è èíòåíñèâíåå.

Êàê ëó÷øå âñåãî ïîöåëîâàòü äåâóøêó â óõî?

Ñíà÷àëà ïîöåëóéòå âíåøíþþ ÷àñòü óõà. Ïîòîì – ìî÷êó. Åñëè õîòèòå, ìîæåòå äàæå íåæíî ïîêóñàòü åå èëè ïîñîñàòü. Çäåñü ñàìîå ãëàâíîå ïîìíèòü, ÷òî, öåëóÿ â óõî, âû âîçäåéñòâóåòå íå òîëüêî íà îñÿçàòåëüíûå, íî è ñëóõîâûå ðàçäðàæèòåëè. Íåñìîòðÿ íà âñå âàøè óñèëèÿ íå ïðîèçâîäèòü íèêàêèõ çâóêîâ, âàì íå óäàñòñÿ èçáåæàòü èõ ïîëíîñòüþ. Íî âû ìîæåòå ïðèãëóøèòü èõ, íåæíûì øåïîòîì ãîâîðÿ åé íà óøêî âñÿêóþ ëþáîâíóþ ÷åïóõó, íàïðèìåð: «Ìèëàÿ ìîÿ, òû íàñòóïèëà ìíå íà íîãó!». Íåò, ÿ ñåðüåçíî, ÷òî áû âû íè ïðîøåïòàëè åé â ýòîò ìîìåíò (äàæå òàêàÿ ôðàçà, êàê: «Äîðîãàÿ, òû îïëàòèëà ñ÷åò çà êâàðòèðó?»), ýòî áóäåò äåéñòâîâàòü íà íåå âîçáóæäàþùå. Âñå ïðîèñõîäèò èç-çà òîãî, ÷òî áëèçêîå ðàñïîëîæåíèå èñòî÷íèêà çâóêà óñèëèâàåò åãî è äîáàâëÿåò ê íåìó ïðèçâóê øåïîòà.

Êðîìå òîãî, íå ïîñëåäíþþ ðîëü ñûãðàþò òåïëî è ìÿãêîñòü âàøèõ ãóá. Íà ýòîé ñòàäèè ïðàêòè÷åñêè íè÷òî íå ìîæåò ïîêàçàòüñÿ íåïðàâèëüíûì, ðàçâå òîëüêî âû íà÷íåòå ðàçãîâàðèâàòü ñâîèì îáû÷íûì ãîëîñîì – ýòî ïîêàæåòñÿ åé ñëèøêîì ãðîìêèì. Íå ïðîèçâîäèòå íèêàêîãî ãðîìêîãî øóìà, ýòî ìîæåò ïîâðåäèòü åå áàðàáàííûå ïåðåïîíêè. Çäåñü ïîäîéäóò âçäîõè òèïà «Î-î-î!», èëè «Ì-ì-ì!», èëè ÷òî-íèáóäü â ýòîì ðîäå – åé ïîíðàâèòñÿ âñå, âñÿêèå ïðèÿòíûå áåññìûñëåííûå ôðàçû, êîòîðûå íå îçíà÷àþò íè÷åãî, êðîìå ëþáâè.

×òî òàêîå äðàçíÿùèé ïîöåëóé?

Ïðåæäå âñåãî, óñëîâüòåñü ñ âàøåé äåâóøêîé, ÷òî â òå÷åíèå îäíîé ìèíóòû âî âðåìÿ ïîöåëóÿ îíà íå áóäåò îòâå÷àòü âàì è ïðåäîñòàâèò âàì öåëîâàòü åå. Òåïåðü ïîöåëóéòå åå ñàìûì ÷óâñòâåííûì ïîöåëóåì, êîòîðûì òîëüêî ìîæåòå ñåáå ïðåäñòàâèòü. Îäíàêî ïðàâèëà èãðû çàïðåùàþò âàøåé äåâóøêå îòâåòèòü íà âàø ïîöåëóé, îíà äîëæíà ïëîòíî ñæàòü ãóáû è íå îòêðûâàòü ðòà.

Ïî÷åìó ìû íà÷àëè öåëîâàòüñÿ – äî ñèõ ïîð îñòàåòñÿ çàãàäêîé. Îäíàêî îáû÷íî ñ÷èòàåòñÿ, ÷òî ðàíüøå ïîöåëóé áûë çíàêîì äîâåðèÿ. Äàâàÿ äðóãîìó ÷åëîâåêó ïîäîéòè ê ñåáå òàê áëèçêî, ëþäè ïîêàçûâàëè, ÷òî îíè íå áîÿòñÿ åãî, ÷òî öåëèêîì åìó äîâåðÿþò.

Ñåãîäíÿ ãîâîðÿò, ÷òî ìû äî ñèõ ïîð íå óòðàòèëè ïðèâû÷êè öåëîâàòüñÿ, ïîòîìó ÷òî íàì íðàâèòñÿ ýòîò ïðîöåññ, ïîòîìó ÷òî îí äîñòàâëÿåò íàì óäîâîëüñòâèå.

Íåâàæíî, êàêîé îòâåò äåéñòâèòåëüíî âåðåí. Ëþäè öåëóþòñÿ óæå ñòîëüêî âåêîâ, ÷òî ïîöåëóé ñòàë íåîòúåìëåìîé ÷àñòüþ èõ êóëüòóðû, è â ðàçâèòèè èñêóññòâà ïîöåëóÿ ïðèíèìàëè è ïðèíèìàþò ó÷àñòèå íàðîäû âñåãî ìèðà.

Íà÷àëî ðàçâèòèþ ïîöåëóÿ áûëî ïîëîæåíî ïðèìåðíî â 3000 ã. äî í.ý., êîãäà ëþäè, ïîêëîíÿÿñü áîãàì, ïîñûëàëè èì ïîöåëóè.

 Äðåâíåì Ðèìå â çíàê ïðèâåòñòâèÿ öåëîâàëè íå òîëüêî äðóçåé è ÷ëåíîâ ñåìüè, íî è òîðãîâöåâ è ïðîñòî ïðîõîæèõ.

 òî æå âðåìÿ â Åãèïòå î ïîöåëóÿõ ïðàêòè÷åñêè íèêòî íè÷åãî íå çíàë. Ñ÷èòàåòñÿ, ÷òî öàðèöà Êëåîïàòðà, èçâåñòíàÿ ñâîèìè ìíîãî÷èñëåííûìè ëþáîâíûìè ïîáåäàìè, íè ðàçó íå öåëîâàëàñü ñ ìóæ÷èíàìè.

 Ñðåäíèå âåêà â Èòàëèè ìóæ÷èíà, ïîöåëîâàâøèé äåâóøêó íà ëþäÿõ, äîëæåí áûë îáÿçàòåëüíî íà íåé æåíèòüñÿ.

Èíòåðåñíà èñòîðèÿ âîçíèêíîâåíèÿ îáû÷àÿ ñòàâèòü êðåñòèêè äëÿ îáîçíà÷åíèÿ ïîöåëóåâ â êîíöå ïèñüìà. Ëþäè Ñðåäíåâåêîâüÿ â ìàññå ñâîåé áûëè íåãðàìîòíû, ïîýòîìó, ïîäïèñûâàÿ äîãîâîð, íàïðèìåð, î êóïëå-ïðîäàæå çåìëè èëè äðóãîãî òîâàðà, îíè ïðîñòî ñòàâèëè êðåñò âìåñòî ñâîåãî èìåíè è öåëîâàëè åãî â çíàê èñêðåííîñòè ñâîèõ íàìåðåíèé.

Âî âðåìÿ áîëüøîãî ïîâåòðèÿ ÷óìû â Ëîíäîíå â 1665 ã. áûë íàëîæåí çàïðåò íà ïîïóëÿðíûé òîãäà â îáùåñòâå ïðèâåòñòâåííûé ïîöåëóé. Áîÿçíü óìåðåòü, çàðàçèâøèñü îò ïîöåëóÿ ñîñåäà èëè äðóãà, ñäåëàëà ïîïóëÿðíûìè òàêèå çíàêè ïðèâåòñòâèÿ, êàê ðåâåðàíñ, ïîêëîí, ïîäíèìàíèå øëÿïû, ìàõàíèå ðóêîé è ò.ï.

 1979 ã. Äýâèä Áîóè èçîáðåë «ëèïîãðàô» – îòïå÷àòîê ãóá ÷åëîâåêà, ÿâëÿþùèéñÿ åãî èíòèìíûì àâòîãðàôîì.  Àìåðèêå äàæå ïðîâîäèëñÿ àóêöèîí ëèïîãðàôîâ èçâåñòíûõ ëþäåé. Âñå âûðó÷åííûå ñðåäñòâà, ñîñòàâèâøèå 16 òûñÿ÷ äîëëàðîâ, ïîøëè â ôîíä çàùèòû äåòåé. Íà ýòîì àóêöèîíå îäèí îòïå÷àòîê ãóá Ìèêà Äæàããåðà áûë ïðîäàí çà 1600 äîëëàðîâ.

Êëàññîâûå ðàçëè÷èÿ â ïîöåëóÿõ!

 Ñðåäíåâåêîâüå âûïîëíåíèå ïðèâåòñòâåííîãî ïîöåëóÿ çàâèñåëî íå òîëüêî îò îòíîøåíèé, ñóùåñòâîâàâøèõ ìåæäó ëþäüìè, íî è îò êëàññîâîé ïðèíàäëåæíîñòè. ×åì íèæå ñòàòóñ ÷åëîâåêà, òåì äàëüøå îò ëèöà îí çàïå÷àòëåâàë ïîöåëóé. Ðàâíûõ öåëîâàëè â ãóáû, ëþäåé ÷óòü âûøå ðàíãîì – â ðóêó, ëþäåé åùå áîëåå âûñîêîãî ñîñëîâèÿ – â êîëåíî, à òåì, äëÿ êîãî òû âñåãî ëèøü ïðàõ (â ïåðâóþ î÷åðåäü äóõîâåíñòâî), íóæíî áûëî öåëîâàòü íîãè èëè äàæå çåìëþ ó èõ íîã. Âîò îòêóäà ðîäèëàñü ñòðî÷êà: «ß ãîòîâ öåëîâàòü ïåñîê, ïî êîòîðîìó òû õîäèëà».

Ïîöåëóé, ãîâîðÿùèé: «Óäà÷è è ñ÷àñòüÿ»!

Ñâàäüáà íèêîãäà íå áûâàåò áåç ïîöåëóÿ. Íà ñàìîì äåëå ñ÷èòàåòñÿ, ÷òî, åñëè íåâåñòà íå ïëà÷åò, êîãäà æåíèõ ïåðâûé ðàç öåëóåò åå âî âðåìÿ âåí÷àíèÿ, èõ áðàê áóäåò íåñ÷àñòíûì.

Ïîöåëóé – ïîæåëàíèå ñ÷àñòüÿ è óäà÷è ðîäèëñÿ âî âðåìÿ äðóãîãî, åæåãîäíîãî ïðàçäíèêà – Ðîæäåñòâà. Òðàäèöèÿ öåëîâàòüñÿ ïîä îìåëîé âîñõîäèò ê îáðÿäàì äðóèäîâ, êîòîðûå âåðèëè, ÷òî ýòî ðàñòåíèå îáëàäàåò ìàãè÷åñêîé ñèëîé. À íåêîòîðûå âîò ñ÷èòàþò, ÷òî öåëîâàíèå ëîòåðåéíûõ áèëåòîâ òîæå ìîæåò ïðèíåñòè óäà÷ó. Êîíêðåòíî ìíå ýòî íèêîãäà íå ïîìîãàëî.

Òâîè ãóáû â ñîòíè ðàç ÷óâñòâèòåëüíåå, ÷åì êîí÷èêè ïàëüöåâ.

Íàñòîÿùèé ïîöåëóé ìîæåò óâåëè÷èòü òâîé ïóëüñ ñ 72 äî áîëåå 100 óäàðîâ â ìèíóòó.

Îäèí ïîöåëóé ñæèãàåò ïðèìåðíî 3 êàëîðèè.

Ïîñëåäíèå ìåäèöèíñêèå èññëåäîâàíèÿ ïîêàçàëè, ÷òî ïðîäîëæèòåëüíûé ñòðàñòíûé ïîöåëóé íàñòîëüêî ïîâûøàåò ïóëüñ è óðîâåíü ãîðìîíîâ â êðîâè ÷åëîâåêà, ÷òî ìîæåò óêîðîòèòü ïðîäîëæèòåëüíîñòü åãî æèçíè ïî÷òè íà 1 ìèíóòó.

à 50-ã एक। XX एक। ó ÷ åíûå Áàëòèìîðà óñòàíîâèëè, ÷ Oi ऐ âðåìÿ ïîöåëóÿ आईओ îäíîãî ÷ åëîâåêà äðóãîìó ïåðåäàåòñÿ 278 ðàçëè ÷ íûõ êóëüòóð áàêòåðèé, 95% êîòîðûõ आइए ïðåäñòàâëÿþò îïàñíîñòè।

Ìóæ÷èíû, êîòîðûå èìåþò ïðèâû÷êó óòðîì ïåðåä óõîäîì íà ðàáîòó öåëîâàòü ñâîèõ æåí, æèâóò íà 5 ëåò áîëüøå îñòàëüíûõ.

Çà âðåìÿ ñâîåãî ïàëîìíè÷åñòâà â Ëàçó áëàãî÷åñòèâûé áóääèñò öåëóåò çåìëþ áîëåå 30 òûñÿ÷ ðàç.

Êàæäîå ïîñëåäóþùåå ïîêîëåíèå íà÷èíàåò öåëîâàòüñÿ «ïî-íàñòîÿùåìó» ðàíüøå, ÷åì ïðåäûäóùåå.

70% ìîëîäûõ ëþäåé îò 16 äî 24 ëåò öåëóþòñÿ âïåðâûå äî òîãî, êàê èì èñïîëíèòñÿ 15, â òî âðåìÿ êàê èç èõ ðîäèòåëåé òàêîé îïûò èìåëè âñåãî 46%.

Êàæäûé äåñÿòûé þíîøà íà÷èíàåò öåëîâàòüñÿ «ïî-íàñòîÿùåìó», åùå íå äîñòèãíóâ 10-ëåòíåãî âîçðàñòà.

Êîðîòêèå ïîäáîðîäêè óáèâàþò æåëàíèå öåëîâàòüñÿ ïðèìåðíî ó òðåòè æåíùèí. Åùå õóæå íà 57% æåíùèí äåéñòâóåò çàïàõ òåëà, à íà 77% – íåñâåæåå äûõàíèå.

Áîëüøèíñòâî îïðîøåííûõ áðèòàíöåâ óòâåðæäàåò, ÷òî ñàìûé ãîðÿ÷èé ïîöåëóé íà ýêðàíå – ýòî ïîöåëóé Ðè÷àðäà Ãèðà è Äåáðû Âèíãåð â ôèëüìå «Ñîëäàò è äæåíòëüìåí».

×åòâåðòü îïðîøåííûõ äåâóøåê â âîçðàñòå 15 – 24 ëåò ïðèçíàëèñü, ÷òî ðàäè îäíîãî-åäèíñòâåííîãî ïîöåëóÿ ñâîåãî êóìèðà îíè ñ ðàäîñòüþ ïîñåëèëèñü áû ïî ñîñåäñòâó ñ åãî ìàòåðüþ èëè ñîãëàñèëèñü áû öåëûé ãîä ãëàäèòü åãî ðóáàøêè.

Ìíîãèå æåíùèíû îáðàùàþò áîëüøå âíèìàíèÿ íà ìóæ÷èí â ôîðìå.

 ïîöåëóÿõ æåíùèíû îòäàþò ïðåäïî÷òåíèå ìóæ÷èíàì ñëåäóþùèõ ïðîôåññèé:

 ñðåäíåì æåíùèíà öåëóåò ïðèìåðíî 79 ìóæ÷èí, ïðåæäå ÷åì âñòóïèò â áðàê.

Èíôåêöèîííûé ìîíîíóêëåîç åùå íàçûâàåòñÿ áîëåçíüþ öåëóþùèõñÿ. Îí ïîëó÷èë ýòî íàçâàíèå ïîòîìó, ÷òî ïåðåäàåòñÿ ïðè ïîöåëóå.

Èç âñåõ æèâîòíûõ ïîöåëóé øèìïàíçå íàèáîëåå ïîõîæ íà ÷åëîâå÷åñêèé. Äðóãèå æèâîòíûå – ëîøàäè, ñîáàêè — òîæå öåëóþòñÿ, íî íå òàê ïîõîæå.

Èçâåñòíûå öåëîâàëüùèêè âñåõ âðåìåí è íàðîäîâ:

  • घरेलू संशोधन - पूर्वी जय २०। XX एक।,
  • ग्रंथ सूची - चैम्बर्स, अध्याय एक XVII एक।
  • Èóäà – ÷åëîâåê, ïðåäàâøèé Èèñóñà ïîñëå òîãî, êàê ïîöåëîâàë åãî,
  • Äæåéìñ Áîíä – ãåðîé-ëþáîâíèê,
  • Äðàêóëà – êðîâîñîñóùèé âàìïèð,
  • Ìåðèëèí Ìîíðî – ãîëëèâóäñêàÿ êèíîäèâà.

Íåêèé àìåðèêàíåö À. Å. Âîëüôðàì èç Ìèííåñîòû çà 8 ÷àñîâ ïîöåëîâàë 8001 ÷åëîâåêà 15 ñåíòÿáðÿ 1990 ã. âî âðåìÿ ôåñòèâàëÿ, ïðîõîäèâøåãî â åãî øòàòå. Òàêèì îáðàçîì, îí óõèòðÿëñÿ öåëîâàòü íîâîãî ÷åëîâåêà ÷åðåç êàæäûå 3,6 ñåêóíäû.

Ïåðâûé ïîöåëóé íà ýêðàíå: 1896 ã. — åãî çàïå÷àòëåëè Ìýé Èðâèí è Äæîí Ñ. Ðàéå â 30-ñåêóíäíîì ðîëèêå Òîìàñà Ýäèñîíà ïîä íàçâàíèåì «Ïîöåëóé».

Ñàìûé íàñûùåííûé ïîöåëóÿìè ôèëüì: «Äîí Æóàí» (1926 ã., êîìïàíèÿ «Óîðíåð Áðàçåðñ»).  íåì íàñ÷èòàëè 191 ïîöåëóé.

Ñàìûé äîëãèé ïîöåëóé एक èñòîðèè Eeii: Ðåäæèñ Òóìè नौकरी Äæåéí Âàéìåí öåëîâàëèñü आइए ïðîòÿæåíèè 185 ñåêóíä एक ôèëüìå «आप सेना अब कर रहे हैं» (। «कहां Nae ÷ एक àðìèè एक», 1940 क), ÷ Oi çàíèìàåò 4% anae ïðîäîëæèòåëüíîñòè ôèëüìà।

चुंबन क्या होते हैं और आपको जितनी बार संभव हो चुंबन करना चाहिए

आपके होंठ स्पर्श करते हैं, दिल तेजी से धड़कना शुरू कर देता है, आपके सिर के सभी विचार गायब हो जाते हैं, आप प्यार और आनंद के मीठे आनंद में डूब जाते हैं, यह ध्यान नहीं देते हैं कि क्या हो रहा है। परिचित हैं?

हां, चुम्बन भावनाओं का कारण बन सकता है, वास्तव में, किसी चीज के साथ तुलना करना मुश्किल है, हम, निश्चित रूप से, ईमानदारी से भावनाओं और भावनाओं से भरे वास्तविक चुंबन के बारे में बात कर रहे हैं। और, जो सबसे दिलचस्प है, प्रत्येक व्यक्ति ऐसी भावनाओं का अनुभव करने में सक्षम है, उन्हें प्राप्त करने के लिए विशेष तैयारी की आवश्यकता नहीं है, यदि आप "अपना" आधा पाते हैं, तो सब कुछ अपने आप ही चलेगा।

और अगर आप इस बारे में सोचते हैं, और इस तरह की परंपरा कहां से आई है - चुंबन के लिए, उन्हें "चुंबन" शब्द से क्या मतलब है, और किस तरह के चुंबन हैं? और जो सबसे दिलचस्प है, हम में से अधिकांश, यहां तक ​​कि इस अंतरंग व्यवसाय में सबसे अधिक अनुभवी हैं, पाठकों को सवालों के जवाब के आधे भी नहीं दे पाएंगे।

इस मुद्दे पर अधिक जानकारी प्राप्त करना हमारे लिए दिलचस्प हो गया, क्योंकि चुंबन मानव जीवन का एक महत्वपूर्ण और अभिन्न अंग हैं। और इस तरह के एक दिलचस्प मामले पर अपने साथी के सामने क्षोभ दिखाना बहुत दिलचस्प होगा। खैर, यह पता लगाने की कोशिश करते हैं।

कोई फर्क नहीं पड़ता कि लोग चुंबन का आविष्कार करने के लिए कितना कठिन प्रयास करते हैं, वे सबसे अधिक संभावना एक विश्वसनीय जवाब नहीं पाएंगे। चुंबन का आविष्कार नहीं किया गया था, टेलीफोन या किसी अन्य उपकरण की तरह, दस्तावेज़ और प्राचीन पत्र उस क्षण को कैप्चर नहीं करते हैं जो मानव जाति के इतिहास में पहले चुंबन के रूप में विशेषता हो सकते हैं।

और यह आश्चर्य की बात नहीं है, और इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि चुंबन को चुंबन क्यों कहा गया था, और पहले किसने किया था। यह पता लगाना दिलचस्प था कि इस तरह की कार्रवाई की उपस्थिति को क्या ट्रिगर किया गया था, क्योंकि किसी तरह का धक्का होना चाहिए था जिसने एक आदमी को एक महिला के होंठों को छूने के लिए प्रेरित किया होगा।

और, अजीब तरह से, कई परिकल्पनाएं हैं, और उनमें से सबसे सौंदर्य से बहुत दूर हैं, उदाहरण के लिए, मान्यताओं में से एक का कहना है कि एक बार बहुत पहले, प्रागैतिहासिक समय में, मानव त्वचा नमक का एक स्रोत था, जो साथ में उत्पन्न हुई थी । सच है, बहुत रोमांटिक नहीं है?

लेकिन संस्करण हैं और जहां यह अधिक रोमांटिक है, उदाहरण के लिए, उनमें से एक के अनुसार, लोगों का मानना ​​था कि सांस के साथ, जो होंठों के संपर्क के दौरान प्रेषित होता था, आत्मा और मानव शक्ति का एक हिस्सा साथी को स्थानांतरित कर दिया गया था। इसलिए, यह माना जाता था कि चुंबन का आदान-प्रदान - एक तरह का शादी की आत्मा। पहले से ही अधिक सुखद है, है ना?

एक चुंबन के दौरान, फेरोमोन त्वचा और किसी व्यक्ति के होंठों की सतह के माध्यम से बाहर खड़े होने लगते हैं, जो अवचेतन स्तर पर एक साथी को जानकारी देते हैं जो शरीर और आत्माओं को एक साथ लाने में मदद करता है।

हां, कई सिद्धांत हैं, हम शायद कभी नहीं जान पाएंगे कि उनमें से कौन सा सच है, इसलिए हमारे लिए सबसे रोमांटिक और आकर्षक छोड़ना सबसे अच्छा है।

चुंबन क्या है?

एक चुंबन शारीरिक संपर्क है, दो हिस्सों के शब्दों के बिना एक प्रकार का संचार, जो सांकेतिक भाषा में एक दूसरे में प्रेम, कोमलता और विश्वास की भावनाओं को व्यक्त करने में सक्षम हैं।

यह एक चुंबन के माध्यम से है जो यह समझ सकता है कि क्या यह व्यक्ति आपके लिए बिल्कुल उपयुक्त है। यह बहुत संभव है कि पहले प्रयास के बाद आप तुरंत अपने लिए इस तथ्य को महसूस करेंगे कि यह चुंबन आपके लिए अंतिम होगा।

कई कारण हो सकते हैं, क्योंकि एक वास्तविक चुंबन बहुत कुछ कह सकता है, यहां तक ​​कि इस बारे में भी कि कोई व्यक्ति खुद को कैसे देखता है और स्वच्छता के नियमों का पालन करता है, और यह महत्वपूर्ण है, खासकर शुरुआती रिश्तों के लिए!

कई लोग मानते हैं कि कुछ मानदंड और मानदंड हैं जिनके द्वारा चुंबन की गुणवत्ता और व्यावसायिकता का आकलन किया जा सकता है, लेकिन यह सब बकवास है।

प्रत्येक व्यक्ति एक व्यक्ति है, उसके पास अपने स्वयं के मानदंड हैं जो अनुमत हैं, जो एक के लिए अनैतिक और अस्वीकार्य है, दूसरे के लिए यह सामान्य है और यहां तक ​​कि आवश्यक है। कुछ के लिए, पहला चुंबन कोमल और न्यूनतम होना चाहिए, जबकि अन्य भावुक आवेशों और गहरी फ्रांसीसी चुंबन के साथ शुरू होते हैं।

तो इस मामले में आपको शर्मीली नहीं होना चाहिए, मानदंडों और मानदंडों की तलाश करें, अधिनियम और अभ्यास, सभी और अधिक, जैसा कि वैज्ञानिक पहले ही पता लगा चुके हैं, चुंबन - यह भी उपयोगी है।

उपयोगी चुंबन क्या है?

हां, आपने सही सुना और लाइनों को भ्रमित नहीं किया, चुंबन वास्तव में लाभ उठाने में सक्षम हैं। उदाहरण के लिए, चुंबन तनाव के साथ संघर्ष में उत्कृष्ट सहायक हैं, पूरी प्रक्रिया के दौरान तनाव हार्मोन मारे जाते हैं, और एंडोर्फिन उन्हें बदलने के लिए आते हैं - खुशी और खुशी के हार्मोन।

यही कारण है कि जो लोग चुंबन करना पसंद करते हैं, वे अक्सर सकारात्मक और हंसमुख लोग होते हैं। और फिर भी, उदाहरण के लिए, आप जानते थे कि फ्रांसीसी चुंबन लगभग 26 कैलोरी जलाता है! और यह बिल्कुल अजीब नहीं है, क्योंकि इस प्रक्रिया में 28 से 35 चेहरे की मांसपेशियों को गति में सेट किया जाता है, जो कि एक प्रकार का जिम्नास्टिक भी है, जो झुर्रियों से अच्छी रोकथाम है। विश्वास नहीं होता? और तुम कोशिश करो।

लंबे और भावुक चुंबन - यह सर्दी और वायरल रोगों की एक उत्कृष्ट रोकथाम है, इसके अलावा, चुंबन एक प्रभावी दर्द निवारक हो सकता है।

इसलिए यदि आपके पास सिरदर्द या पेट है, चुंबन, अगर दर्द दूर नहीं होता है, तो, किसी भी मामले में, आप इसे कुछ समय के लिए भूल जाते हैं, और अधिक रोमांचक प्रक्रिया के लिए आपको विचलित करते हैं।

इसके अलावा, एक चुंबन, जैसा कि आपने शायद देखा है, हृदय संकुचन की आवृत्ति को बढ़ाता है, जो वाहिकाओं के माध्यम से रक्त के सक्रिय आंदोलन में योगदान देता है, और यह बदले में, हमारे शरीर की सबसे दूर की कोशिकाओं में भी अधिक ऑक्सीजन के प्रवाह में योगदान देता है।

किस प्रकार के चुंबन हैं

चुंबन एक विज्ञान नहीं है, लेकिन उनके बारे में जानने के लिए बहुत कुछ है। सिद्धांत से अभ्यास की ओर बढ़ने से पहले, आपको यह जानने की आवश्यकता है कि चुंबन क्या हैं और किन मामलों में वे प्रासंगिक होंगे। सब कुछ जानना और उन्हें कैसे करना है बड़ी संख्या के कारण काफी मुश्किल है, इसलिए कुछ सरल सत्य सीखना महत्वपूर्ण है।

सबसे पहले, सभी चुंबन अलग-अलग हैं, लेकिन उनके पास एक ही आधार है - एक साथी के शरीर को छूने की इच्छा। यह बस एक ही नहीं होता है, इसलिए उनमें से प्रत्येक में एक निश्चित भावना रखना महत्वपूर्ण है: कोमलता, प्रेम, जुनून और बहुत कुछ। साथ ही, आपको हमेशा उस स्थिति पर विचार करना चाहिए जिसमें आप हैं।

आपकी स्नेह दिखाने की इच्छा एक सार्वजनिक संस्थान में अनुचित हो सकती है, या आपका साथी बस आपके इरादों को सही ढंग से समझने में सक्षम नहीं होगा। यदि आप इस तथ्य को समझते हैं, तो पता करें कि चुंबन क्या हैं, और आप इस ज्ञान का उपयोग बिना किसी कठिनाई के प्रभावी ढंग से कर सकते हैं।

दूसरे, आत्मा के इस प्रकोप के बारे में सभी कवियों और लेखकों ने कितना भी लिखा हो, चुंबन का एक विस्तृत वर्गीकरण और उनके विवरण को द्वितीय कला के रूप में जल्द ही संकलित किया गया था। ईसा पूर्व प्राचीन भारत में कामसूत्र में। कामसूत्र में साथी को अंतरंग सुख देने का मूल ज्ञान होता है। इस ज्ञान का अर्थ है कि किस प्रकार का फोरप्ले मौजूद है।

चुंबन कितने प्रकार के होते हैं?

कामसूत्र में मुख्य सूची में 50 प्रजातियां हैं, लेकिन प्रत्येक व्यक्ति इसे कई और विकल्पों के साथ बढ़ा सकता है। यह सब फंतासी पर निर्भर करता है। यदि हम कामसूत्र के अनुसार चुंबन के प्रकारों के बारे में बात करते हैं, तो उन सभी को निम्नलिखित समूहों में विभाजित किया जा सकता है:

  • बिना जीभ के चुंबन। यह किसी प्रकार का मैत्रीपूर्ण या दयालु चुंबन है, जब कोई व्यक्ति केवल अपनी सहानुभूति व्यक्त करना चाहता है। इसके अलावा, यह चुंबन पहली प्रारंभिक दुलार हो सकता है, अगर पार्टनर एक दूसरे को कम जानते हैं,
  • जीभ से चूमना। यह विकल्प भागीदारों के बीच वास्तविक अंतरंगता के लिए पहला कदम है। वह एक महान भावनात्मक भार वहन करता है, इसलिए चुंबन की गति और तीव्रता के माध्यम से अपनी इच्छाओं को सही ढंग से व्यक्त करना महत्वपूर्ण है,
  • बिना होंठों का चुंबन। एक नाक, पलकें, हाथ और बहुत कुछ की मदद से अपनी भावनाओं को व्यक्त करने का एक दिलचस्प और मूल तरीका। इस तरह का चुंबन भाषा संस्करण की तुलना में अधिक संवेदनशील और भावनात्मक हो सकता है, लेकिन व्यवहार में शायद ही कभी इसका उपयोग किया जाता है। इस तरह की अंतरंगता उन लोगों के बीच दिखाई देती है जो एक दूसरे के साथ प्यार करते हैं या अंतरंग जीवन में बहुत अनुभव रखते हैं।

आप इनमें से अधिकांश चुंबन को इंटरनेट पर शैक्षिक वीडियो, फ़ोटो के सेट और यहां तक ​​कि चित्रों में देख सकते हैं। यदि आपने जो देखा, वह आपको पसंद आया, तो इसके कार्यान्वयन की तकनीक का अध्ययन शुरू करना सार्थक है।

चुंबन और उनकी तकनीक

चुंबन और उनकी तकनीक - इन मूल्यों को भ्रमित न करें। एक चुंबन एक प्रक्रिया है, और एक तकनीक इसे निष्पादित करने के लिए एक विधि है। रिश्ते के प्रत्येक चरण, भावनाएं एक विशेष तकनीक के अनुरूप हैं। इसे समझना होगा ताकि साथी आपकी हरकतों की सही व्याख्या कर सके। इस तथ्य को देखते हुए, यह कई अलग-अलग चुंबन तकनीकों को उजागर करने के लिए लायक है:

  • पहली चुंबन तकनीक। इसका नाम खुद के लिए बोलता है, इसलिए इसे धीरे और स्वाभाविक रूप से निष्पादित किया जाना चाहिए। पहले आपको अपने हाथों से साथी के चेहरे या गर्दन को हल्के से छूने की जरूरत है, फिर बालों के माध्यम से चलाना आसान है। फिर आपको थोड़ा ओर की ओर झुकना चाहिए ताकि नाक से टकरा न जाए। चुंबन होंठों द्वारा किया जाता है, जीभ के बिना,
  • पूरी भावना। जब आप हवा या तरल में खींचना चाहते हैं तो यह तकनीक समान है। यह महत्वपूर्ण है कि इसे ज़्यादा न करें, इसलिए चुंबन लंबा नहीं होना चाहिए,
  • लड़कियों के लिए तकनीक विशेष चुंबन, एक बचकाना खेल की तरह। यह एक प्रतियोगी को गुस्सा दिलाने या यह दिखाने के लिए है कि यह आदमी व्यस्त है। लड़की को चमकीले ढंग से अपने होंठ बनाने और लड़के की गर्दन या छाती पर एक निशान लगाने की जरूरत है। लिपस्टिक को ट्रेस करना आसान नहीं होगा, और वह इसे केवल कुछ घंटों में ही देख पाएगी,
  • कामुक लाड़ की तकनीक। इसमें न केवल साथी के होंठ, बल्कि गर्दन, कान, गाल और पूरे ऊपरी शरीर शामिल हैं। साथी के सभी एरोजेनस ज़ोन को जीभ से सहलाया जाना चाहिए, उन्हें काट और चूसा भी जा सकता है। वीडियो पर ऐसे चुंबन और उनकी तकनीकों को अक्सर देखा जा सकता है।

ये बुनियादी तकनीकें सभी के लिए उपयोगी होंगी, हालांकि चुंबन को एक निश्चित अर्थ देकर उनकी संख्या में काफी विस्तार किया जा सकता है।

चुंबन और उनका अर्थ

यह समझना कि चुंबन क्या हैं और उनका क्या मतलब है, यह बहुत महत्वपूर्ण है। यहां तक ​​कि अगर आप कौशल के एक निश्चित स्तर पर पहुंच गए हैं और कुशलता से लोकप्रिय तकनीकों का उपयोग करते हैं, तो यह महत्वपूर्ण है कि रिश्ते के भविष्य के परिप्रेक्ष्य के बारे में अपने साथी को गुमराह न करें।

एक चुंबन प्यार, थोड़ी सहानुभूति, अंतरंग जुनून और बहुत कुछ व्यक्त कर सकता है। इस कारक को ध्यान में रखना महत्वपूर्ण है, ताकि किसी व्यक्ति के साथ संबंध खराब न हो।

सही चुंबन क्या है

नए रिश्ते इस तथ्य को जन्म देते हैं कि पहला चुंबन दोनों के लिए महत्वपूर्ण होगा। "सही" चुंबन की कोई अवधारणा नहीं है, क्योंकि विभिन्न स्थितियों में भागीदारों से विभिन्न कार्यों की आवश्यकता होती है। पहला चुंबन या तो भावुक हो सकता है या केवल गाल पर एक स्पर्श या हाथों का संपर्क हो सकता है।

अक्सर, चुंबन कामुक विचारों का कारण बन जाता है, जो तुरंत सेक्स की ओर ले जाता है। किसी भी मामले में, आपके द्वारा ज्ञात 50 प्रकार के चुंबन में से कोई भी सही होगा यदि आप अपने सहकर्मियों की साझेदार की प्रतिक्रिया को समझने की कोशिश करते हैं।

जीभ के बिना होंठों पर चुंबन के प्रकारों का सावधानीपूर्वक अध्ययन करें। ऐसा करने के लिए, आप नेटवर्क से वीडियो और फ़ोटो का उपयोग कर सकते हैं। कुल में लगभग 20 प्रजातियां हैं। उन सभी को भावनात्मक, अविवेकी, प्लेटोनिक, आदि कहा जा सकता है। सबसे लोकप्रिय गाल, गर्दन और यहां तक ​​कि आंखों पर चुंबन कहा जा सकता है। पहले दो करीब होने की इच्छा पर संकेत देते हैं, और अंतिम पूर्ण विश्वास के बारे में कहेंगे।

जीभ से चुंबन के प्रकार

यदि जीभ के बिना चुंबन के प्रकार आपको पहले से ही ज्ञात हैं, तो अधिक कठिन कार्यों को करने का समय है। भाषा के साथ चुंबन का सबसे आम प्रकार फ्रेंच है। इसे इस तरह की अधिकांश अन्य अंतरंग लाड़ का आधार माना जाता है। इसके कार्यान्वयन पर विस्तृत सिफारिशें नीचे पाई जा सकती हैं।

भाषा और उनकी तकनीकों के साथ विभिन्न प्रकार के चुंबन के बारे में बोलते हुए, यह सबसे अधिक ध्यान देने योग्य है:

  • यहां तक ​​कि चुंबन, जब लड़का अपने होंठ एक पुआल के साथ खींचता है और आत्मविश्वास से लड़की के मुंह में अपनी जीभ डालता है। बिना किसी ज़बरदस्ती के, साथी की भाषा को आसानी से छूना महत्वपूर्ण है
  • इनटो या माउथ फाइट, चुंबन के दो विपरीत हैं। पहला चिकना और रोमांटिक होगा (बस इससे भी धीमा), और दूसरा भावुक होगा। उत्तरार्द्ध के मामले में, भागीदार एक-दूसरे के होंठ काटते हैं,
  • "चुभने" चुंबन, जब लड़की की जीभ लड़के के गाल के पीछे तेजी से प्रवेश करती है, और फिर, जैसा कि यह था, अपने लड़कों को चकमा देता है।

आप अभी भी कई अन्य विकल्पों को कॉल कर सकते हैं, लेकिन उन लोगों के प्रकारों के बारे में मत भूलना जो शादी या दोस्ताना खेल में हैं। आपको शादी में वर्णित तकनीकों का उपयोग नहीं करना चाहिए, कॉमिक चुंबन नरम और मुश्किल से ध्यान देने योग्य होना चाहिए। अन्यथा, साथी अप्रिय हो सकता है।

आपको फ्रांसीसी चुंबन के बारे में क्या जानने की जरूरत है

फ्रेंच चुंबन दुनिया में सबसे कामुक चुंबन में से एक है। एक फ्रांसीसी चुंबन को ठीक से करने और इसके अर्थ को समझने के लिए, अपने साथी को असुविधा देने और धीरे-धीरे लेकिन निश्चित रूप से नीचे दी गई सिफारिशों का पालन करने से डरना महत्वपूर्ण नहीं है:

  • अपने साथी के होंठों पर अपनी जीभ को हल्के से स्पर्श करें। यदि वह आपको जवाब देता है, तो आपको अपनी जीभ को उसके मुंह में थोड़ा धक्का देना चाहिए। यदि आपको प्रतिक्रिया महसूस नहीं होती है, तो आपको फ्रेंच चुंबन को बेहतर समय तक स्थगित करना चाहिए,
  • यदि साथी निरंतरता के खिलाफ नहीं है, तो धीरे से लेकिन निश्चित रूप से अपनी जीभ को रगड़ें। इस क्रिया को कई बार दोहराया जाना चाहिए, समय के साथ यह लयबद्ध नृत्य की तरह हो जाएगा,
  • अगला कदम पार्टनर के आकाश और मुंह के अन्य हिस्सों की जीभ को सहलाना हो सकता है। यह सावधानीपूर्वक और मजबूत दबाव के बिना किया जाना चाहिए। बाद में, आप सक्शन होंठ पर जा सकते हैं।

फ्रांसीसी चुंबन का मूल्य क्या होगा, केवल स्वयं भागीदारों का चयन करें। यह एक प्लेटोनिक रिश्ते की शुरुआत और सेक्स के लिए पहला कदम दोनों हो सकता है। यदि पार्टनर निकटता की पेशकश पर तुरंत संकेत नहीं दे सकता है, तो एक चुंबन आपके लिए कर सकता है। लाड़ की गति को मजबूत करने के लिए पर्याप्त। यदि पार्टनर उन्हें जवाब देता है, तो अजीबता जल्दी से दूर हो जाएगी, अन्यथा बस अपनी ललक को शांत करें और कोमल दुलार पर लौट आएं।

बेशक, सामान्य सिफारिशों के लिए, आप वह स्नेह जोड़ सकते हैं जो आपके साथी को पसंद है। किसी भी स्थिति में मुख्य बात यह है कि अपने जोड़े की इच्छाओं को समझने की कोशिश करें और व्यवहार में प्राप्त जानकारी को लागू करें। इस मामले में, आप सफल हैं।

हमें चुंबन की आवश्यकता क्यों है?

यहाँ है चुंबन के बारे में 50 तथ्यजो आपको अभी तक पता नहीं है:

  1. दर्शनशास्त्र चुंबन का विज्ञान है।
  2. फिलिमनिया - चुंबन के साथ एक जुनून।
  3. पिलामेटोफोबिया - चुंबन का डर।
  4. जो लोग चुंबन से जागते हैं वे दिन की शुरुआत अधिक सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ करते हैं।
  5. जो लोग हर सुबह अपने साथी को चूमते हैं, वे काम से कम थक जाते हैं, काम करने के रास्ते में कार दुर्घटनाएं होने की संभावना कम होती है और पांच साल तक जीवित रहते हैं।
  6. 1 मिनट तक चलने वाला चुंबन 109 किलोजूल (26 कैलोरी) खर्च करता है।
  7. वयस्कों का चुंबन औसतन 4.5 सेकंड तक रहता है।
  8. जब चुंबन और पिस्तौल की शूटिंग होती है, तो शरीर में समान हार्मोन उत्पन्न होते हैं।
  9. एक भावुक चुंबन के दौरान चेहरे की सभी मांसपेशियां शामिल होती हैं।
  10. कुछ वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि चुंबन त्वचा की स्थिति और रक्त परिसंचरण में सुधार, निम्न रक्तचाप, तनाव से राहत, सिरदर्द को कम करने और हमें युवा महसूस करने में मदद करते हैं।
  11. कुछ वैज्ञानिकों ने सुझाव दिया है कि हमारे मस्तिष्क में विशेष न्यूरॉन्स होते हैं जो हमें अंधेरे में किसी प्रिय व्यक्ति के होंठ खोजने में मदद करते हैं।
  12. पहली बार 14 साल की उम्र में 50% लोगों ने चूमा।
  13. पृथ्वी का औसत निवासी अपने जीवन के 336 घंटे चुंबन में बिताता है।
  14. कुछ वैज्ञानिकों का तर्क है कि जिन बच्चों को बचपन में अधिक बार चूमा जाता है वे आमतौर पर रचनात्मक क्षमताओं और महत्वपूर्ण सोच के साथ अधिक बुद्धिमान लोग होते हैं।
  15. एक भावुक चुंबन के दौरान, लोग आपस में लगभग 5 मिलियन बैक्टीरिया का आदान-प्रदान करते हैं।
  16. एक चुंबन के दौरान, आप मोनो-न्यूक्लियोसिस (ग्रंथियों की सूजन) और दाद से संक्रमित हो सकते हैं।
  17. एक चुंबन के दौरान, अधिक लार का उत्पादन क्षरण के विकास को रोकने के लिए किया जाता है। लार हानिकारक बैक्टीरिया से दांत साफ करती है।
  18. चुंबन लेते समय हाथ मिलाने पर एक सामान्य सर्दी को पकड़ने की संभावना अधिक होती है।
  19. क्रिसमस के लिए मिस्टलेटो शाखा के तहत चुंबन के अंग्रेजी रिवाज के विपरीत, यदि आप चुंबन को छोड़ देते हैं तो कुछ भी भयानक नहीं होगा।
  20. यदि दुल्हन शादी के दौरान दूल्हे को चूमने के बाद रोती नहीं है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि शादी दुखी होगी।
  21. यदि आपके पास खुजली वाली नाक है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि एक मूर्ख आपको चुंबन देगा।
  22. प्राचीन रोम में, एक चुंबन को शादी को औपचारिक करार दिया गया था।
  23. रोमन सम्राटों ने खुद को उस स्थिति के अनुसार चूमने की अनुमति दी जो वे सम्मान की निशानी देते हैं। महत्वपूर्ण लोगों को सम्राट को होंठों पर चुंबन करने का अधिकार था, कम महत्वपूर्ण वाले - उन्होंने सम्राट के हाथ को चूमा, और सबसे तुच्छ लोगों को - एक पैर।
  24. यूरोप में, चुंबन VI सदी में प्रेम आकर्षण का प्रतीक बन गया है।
  25. प्राचीन मिस्रियों ने चुंबन के बजाय अपनी नाक रगड़ी, जैसा कि आधुनिक एस्किमो आज करते हैं।
  26. जब उन्होंने यूरोप के लोगों को देखा, तब ही चीनी भी चुम्बन करने लगे।
  27. किंवदंती के अनुसार, जो कॉर्क के आयरिश काउंटी में स्थित, ब्लार्नी कैसल में ब्लार्नी पत्थर को चूमता है, वह वाग्मिता और अनुनय का उपहार प्राप्त करेगा।
  28. मिस्टलेटो के नीचे चूमने की परंपरा, मिस्टलेटो के नीचे बैल को मारने की प्रथा से आती है।
  29. चिंपांज़ी तनाव से राहत के लिए बोनोबोस चुंबन।
  30. अगर डॉल्फिन किसी भी पुरुष को पसंद करती है, तो वह उसे चूमता है।
  31. 63% कुत्ते के मालिक नियमित रूप से अपने पालतू जानवरों को चूमते हैं।
  32. Французским называется поцелуй, при котором целующиеся дотрагиваются друг до друга своими языками. Но его изобрели не французы.
  33. Мужчины, целующие своих жён по утрам перед уходом на работу, зарабатывают больше тех, кто этого не делает.
  34. В книге «Ананга-Ранга» (подобие «Камасутры») написано, что тем, кто ссорится, нужно поцеловаться, чтобы они забыли о своей ссоре.
  35. "किस बास्केटबॉल" एक प्रकार का बास्केटबॉल है जिसमें एक जोड़ी को चुंबन को बाधित किए बिना यथासंभव कई गेंदों को टोकरी में फेंकने की आवश्यकता होती है। मुझे आश्चर्य है कि वे कैसे तय करते हैं कि कौन जीता?
  36. हर्शे का चुंबन (हर्शे का चुंबन) 1907 से निर्मित है। कारखाने के कर्मचारियों ने उन्हें चुम्बन कहा, यह देखते हुए कि उन्हें बनाने वाली मशीन ने एक कन्वेयर बेल्ट को चूमा।
  37. कनाडाई पोरपाइन होंठों पर एक दूसरे को चूमते हैं।
  38. यदि मध्ययुगीन इटली में उन्होंने देखा कि कैसे एक आदमी सार्वजनिक स्थान पर किसी महिला को गले लगाता है और चूमता है, तो वह उससे शादी करने के लिए मजबूर हो सकता है।
  39. पहली बार स्क्रीन पर, 1896 की किस फिल्म में एक चुंबन दिखाया गया था।
  40. क्लासिक मूक फिल्म "डॉन जुआन" (1926) स्क्रीन पर दिखाए गए चुंबन की संख्या में रिकॉर्ड धारक है। सभी में 127 हैं। प्रसिद्ध अभिनेता जॉन बैरीमोर ने शीर्षक भूमिका में अभिनय किया।
  41. एस्किमो, पॉलिनेशियन और मलेशियाई लोग चुंबन के बजाय अपनी नाक रगड़ते हैं।
  42. प्राचीन रोमवासियों ने बधाई के संकेत के रूप में एक दूसरे को आँखों में या होठों पर चूमा।
  43. पूर्व-क्रांतिकारी रूस में, राजा के चुंबन को सार्वजनिक मान्यता का सर्वोच्च रूप माना जाता था।
  44. विक्टोरियन युग में, शिष्टाचार निर्धारित पुरुष महिलाओं के हाथ को चूमते हैं।
  45. यूरोप में अभिवादन का मानक रूप दोनों गालों पर एक चुंबन है। इसे दो बार, चार, छह और जितना चाहें उतना दोहराया जा सकता है।
  46. कुछ अफ्रीकी जनजातियों के प्रतिनिधि अपने नेता को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं, जमीन पर उनकी पटरियों को चूमते हैं।
  47. सबसे लंबा अंडरवाटर चुंबन 2 मिनट और 18 सेकंड तक चला। यह 2 अप्रैल, 1980 को टोक्यो में दर्ज किया गया था।
  48. अमेरिकी राज्य इंडियाना में, मूंछों वाले व्यक्ति को "नियमित रूप से लोगों को चूमना" निषिद्ध है।
  49. अमेरिका के हार्टफोर्ड, कनेक्टिकट शहर में, यह अवैध माना जाता है अगर कोई आदमी रविवार को अपनी पत्नी को चूमता है।
  50. आयोवा के अमेरिकी शहर सेडार रेपिड्स में किसी अजनबी को चूमना अपराध है।

साउथेम्प्टन, ब्रिटेन से Shauna McInerney

क्या चुंबन से कोई एलर्जी है?

जाहिर है, चुंबन वास्तव में खाद्य एलर्जी पैदा कर सकता है। कम से कम, इस तरह के निष्कर्ष डॉ। रोज़मेरी हैलेट 3 के नेतृत्व में शोधकर्ताओं द्वारा पहुंच गए थे। उन्होंने 379 रोगियों के इतिहास का अध्ययन किया, जिन्हें नट या बीज से एलर्जी थी, उनमें से 20 ने कहा कि एलर्जी किसी अन्य व्यक्ति को चूमने के बाद विकसित हुई।

शायद उस व्यक्ति ने कुछ खा लिया जिससे एलर्जी की प्रतिक्रिया हुई। शोधकर्ताओं ने बताया कि ज्यादातर मामलों में यह मध्यम था और केवल संपर्क क्षेत्र की खुजली और सूजन में व्यक्त किया गया था। लेकिन चार मामलों में, मरीजों को सांस लेने में कठिनाई हुई। सबसे खराब स्थिति तीन साल के एक बच्चे में देखी गई, जिसे एक माँ द्वारा गाल पर चूमा गया था, जिसने सिर्फ मटर सूप की कोशिश की थी। लड़के को एलर्जी की इतनी गंभीर प्रतिक्रिया थी कि उसे अस्पताल भेजने की तत्काल आवश्यकता थी।

हैलट और उनके सहयोगियों ने लिखा है: “ज्यादातर लोगों को शायद संदेह नहीं है कि चुंबन से एलर्जी की प्रतिक्रिया हो सकती है। चूंकि बैठकों के दौरान देखी गई प्रतिक्रियाओं में से एक तिहाई, एलर्जी के साथ ऐसे संपर्कों की जानकारी मुख्य रूप से किशोरों और युवा लोगों के लिए उपलब्ध होनी चाहिए। "

सोमरसेट, न्यू जर्सी, अमेरिका से एलिसन क्लेन

जीवन को चूमना लम्बा है?

चुंबन वास्तव में जीवन को लम्बा खींचने में सक्षम हैं। अध्ययनों से पता चलता है कि जीवन काल तनाव की कमी, कम कोलेस्ट्रॉल और करीबी रिश्तों से संतुष्टि की एक उच्च डिग्री पर निर्भर करता है। और ये तीनों कारक चुंबन के सीधे अनुपात में हैं!

डॉ। कोरी फ्लॉयड के मार्गदर्शन में किए गए एक अध्ययन में, 52 वयस्क विषयों को दो समूहों में विभाजित किया गया था। एक समूह को "अपने सहयोगियों के साथ रोमांटिक चुंबन की आवृत्ति बढ़ाने" का कार्य दिया गया था, जबकि दूसरे समूह को पहले की तरह चुंबन जारी रखने के लिए कहा गया था।
6 सप्ताह के बाद, शोधकर्ताओं ने पाया कि "एक प्रयोगात्मक समूह ने तनाव धारणा में सुधार, रिश्तों के साथ संतुष्टि और कुल सीरम कोलेस्ट्रॉल में कमी देखी"

वाणी यौन आकर्षण में एक महत्वपूर्ण कारक है। जिस तरह लोग शारीरिक रूप से स्वस्थ शरीर के लिए आकर्षित होते हैं, ठीक उसी तरह वे स्वस्थ आवाज से भी आकर्षित होते हैं। लोग, एक नियम के रूप में, अपने लिए उपयुक्त साथी खोजने की इच्छा रखते हैं। यह अपने स्वयं के हितों में और हमारी प्रजातियों के विकासवादी विकास के हितों में दोनों है।

Pin
Send
Share
Send
Send

lehighvalleylittleones-com